2017-07-11

नपुंसकता का इलाज होम्योपैथी से // Treatment of Impotence with Homeopathy



   यह एक अच्छी तरह से ज्ञात तथ्य है कि हमारे अंदर प्यार करने और अंतरंगता क्षमता है जो हमें तंदरुस्त और स्वस्थ रखता है। अकेलेपन से बिमारियो के बढ़ने का जोखिम होता है, और रिलेशनशिप समस्त स्वास्थ्य के लिए सही पर एक सकारात्मक प्रभाव डालती है दिल के स्वास्थ्य का संबंध उम्र से संबंधित स्वास्थ्य मुद्दों से है। हमारे वयस्क जीवन में हम में से ज्यादातर के लिए एक पति-पत्नी या साथी के लिए सबसे महत्वपूर्ण संबंध है। एक संतोषजनक और स्वस्थ सेक्स जीवन एक अच्छी रिलेशनशिप के लिए महत्वपूर्ण है। यौन विकारों जैसे कम यौन इच्छा, नपुंसकता, पुरुष ओरगास्मिक(कामोन्माद संबंधी) रोग, महिला ओरगास्मिक(कामोन्माद संबंधी) रोग, और समय से पहले वीर्य स्त्राव यौन प्रतिक्रिया में गड़बड़ी करते है। होम्योपैथिक उपचार द्वारा रक्त की आपूर्ति और उत्तेजक तंत्रिकाओं को बढ़ाने के काम करते हैं। इन उपचारो की विधि एक रोगी के मनोवैज्ञानिक समस्याओं के इलाज के लिए भी अच्छा है। होम्योपैथिक औषधियों तंदरुस्ती का एक सामान्य एहसास देता है और इस तरह रोगी ताक़त(जोश) को पुनः प्राप्त करता है।
कामेच्छा में कमी के उपचार के लिए होम्योपैथी
पुरुषों और महिलाओं को किसी भी उम्र कामेच्छा मे कमी की एक भयावह समस्या हो सकती है। कामप्रवृति मे कमी और यौन अंतरंगता के लिए इच्छा की कमी के कई प्रमुख कारण हो सकते हैं। होम्योपैथिक उपचार कामप्रवृति की कमी के उपचार के लिए प्रभावी रहे हैं।
कामप्रवृति मे कमी के उपचार के लिए कुछ सामान्य और प्रभावी होम्योपैथिक उपचार Iodium,Plumbum,metalicum, urgenticum है।
आयोडियम: 
 पुरुषो में यौन शक्ति की हानि के साथ कृष वीर्यकोष के लिए एक उपयोगी उपाय है।
प्लुम्बुम मेतालिच्चुमः यह यौन इच्छा की कमी के साथ अंडकोष का संकीर्ण लगने में और यौन इच्छा की कमी के साथ प्रगतिशील मांसपेशी मे क्षीणता पुरुषों में मूल्यवान उपाय रहा है।
अर्जेंटम नाईट्रिकम- 
कामप्रवृति मे पूर्ण हानि के साथ नर्वस और उत्सुक पुरुषों में उपयोगी उपाय है या जो वीर्य स्राव मे निर्माण में विफल रहते है जब संभोग करने का प्रयास करते है।
आमतौर पर अन्य प्रयुक्त उपचार फास्फोरस, चाइना , फास्फोरिकम एसीडम, एगनस कास्ट, लायकोपोडीयम, कोनियम , स्टेफीसेगरिया शामिल है। ये उपचार आमतौर पर आपके लक्षणो और सहज प्रकार के आधार पर निर्धारित होते हैं। आपके सहज प्रकार आपके शारीरिक, भावनात्मक, और मनोवैज्ञानिक श्रृंगार के द्वारा परिभाषित है। एक अनुभवी होम्योपैथिक चिकित्सक आपके लिए सबसे उपयुक्त उपचार निर्धारित करने से पहले इन सभी कारकों का मूल्यांकन करते है। यह महत्वपूर्ण है कि कामप्रवृति मे कमी और अन्य यौन विकारों के उपचार के लिए एक पेशेवर होम्योपैथिक चिकित्सक से परामर्श करें।
नपुंसकता के उपचार के लिए होम्योपैथी
नपुंसकता पुरूषो के सम्मुख एक सामान्य समस्या है। नपुंसकता में जहाँ लंबे समय के लिए वीर्य स्त्राव करने, पर्याप्त सामान्य यौन संबंध बनाए रख पाने में अक्षमता है। होम्योपैथिक नपुंसकता के इलाज के लिए प्रयुक्त उपचार के सर्वाधिक प्रभावी हैं और प्रायः गंभीर दुष्प्रभाव का कारण ज्ञात नही होते है।
होम्योपैथिक उपचार के साथ स्व इलाज करने की कोशिश कर सकते है, लेकिन यदि आपकी समस्या निरंतर या आवर्ती है, एक डॉक्टर को शारीरिक, हार्मोन, या तंत्रिका तंत्र की समस्या के लिए जांच इलाज से पहले की जानी चाहिए। एक अनुभवी चिकित्सक के मार्गदर्शन में होम्योपैथिक उपचार में मदद मिल सकती है। एक व्यक्ति की शारिरीक प्रणाली में संतुलन लाना, भावनात्मक और शारीरिक दोनो रूप से और नपुंसकता का इलाज करने के लिए है।
नपुंसकता के इलाज के कुछ सामान्य दवाओं का प्रयोग किया जाता है फास्फोरस, चाइना , फास्फोरिकम एसीडम, एगनस कास्ट, लायकोपोडीयम, कोनियम , स्टेफीसेगरिया हैं।
अग्नुस कास्तुसः यदि नपुंसकता के विकास के बाद आप कई वर्षों के लिए अधिक जीवन और लगातार यौन गतिविधि के लिए अग्नुस कास्तुस उपयोगी हो सकता है। यदि आप जननांगों मे एक ठंडा सनसनी का एहसास एगनस कास्ट संकेत करते है।
अर्जेंटम नाएट्रिकम पुरुषों जिसके वीर्य स्राव मे कमी या विफल रहते है जब यौन अंतरंगता का प्रयास, विशेष रूप से यदि समस्या के बारे में मानसिकता इसे बदतर बनाता है।
नपुंसकता मे केलेडीयम  का स्थान भी महत्वपूर्ण माना गया है|