2015-09-23

सरल उपचार

 ऐंड़ियों के फटने का सरल  उपचार -


आप गेंहूँ का भूसा लें उसे ८ गुने पानी में उबाल कर पानी को तसले में रखकर अपने दोनों पैर इस पानी में डालकर १५ मिनट बैठिए| केवल एक सप्ताह में कटी-फटी दुःख व शर्मिन्दगी देने वाली ऐंड़ियां चिकनी, साफ सुथरी हो जाएँगी| यही नहीं जल्दी आप की ऐंड़ियां फ़टेंगीं भी नहीं कभी नहीं सालो साल नहीं|

मुख का सौंदर्य बढाने के लिए-
श्वेत चन्दन ५ मिग्रा, हल्दी १ ग्राम, जुलाब जल २ चम्मच, ४ चम्मच दूध, मृतिका जल २ चम्मच, चिरौंजी १ ग्राम मिलाकर सप्ताह में २ बार मालिश करें | एक घण्टे बाद स्नान करें | आप गुलाब की तरह सौंदर्य की प्रतिमूर्ति बन जायेंगें | यह अनुभूत  योग है अवश्य इससे लाभ उठाइये |

धातु क्षीणता ,शीघ्रपतन की चिकित्सा -
धातु क्षीणता, स्वप्नदोष, शीघ्रपतन, पेशाब के साथ वीर्य जाना, संभोग शक्ति समाप्त हो जाना इत्यादि समस्याओं के लिए लोग वाजीकारक निस्खे ढूंढते हैं, औषधियां कहते हैं| पत्र पत्रिकाओं में विज्ञापन पढ़कर महंगे-महंगे कैप्सूल व गोली खातें हैं अथवा कथित अखबारी विज्ञापन वाले हकीमों, वैद्यों से बहुमूल्य दवाइयाँ तैयार कराते हैं| इन सब कथित विज्ञापनी वैद्य व दवाओं में क्षणिक उत्तेजना बढ़ाने वाले घातक रासायनिक तत्व एवं नशीले पदार्थ होते हैं जो हमारे शरीर को आंतरिक रूप से कमजोर कर देते हैं| जनन सम्बन्धी तकलीफ तो ठीक होती नहीं बल्कि कई अन्य बीमारियां और घेर लेती हैं| इन कथित औषधियों में मौजूद नशीले पदार्थों से नशे की लत पड़ जाती है जो जीवन को नर्क बना देती है | एक निरापद सरल सस्ता और अचूक नुस्खा निम्नलिखित है | इसका सेवन करते हुए कामदेव आसान, ब्रम्ह्राचर्य आसान, प्रणव आसान, चरणमूल आसान, आदि का अभ्यास करने से सम्भोग शक्ति बढ जाती है, वीर्य निर्दोष हो जाता है, लिंग दोष ठीक हो जाता है | देशी अदरक का रस 5ml + सफेद प्याज का रस 5ml + शहद 10ml + देशी घी 2ml लेकर सभी को मिलाकर प्रातः खली पेट पीवें| सायं काल १० ग्राम विशिष्टि आयुवर्धक चूर्ण एक गिलास मीठे दूध से पीजिए| प्रातः काल नाश्ते में ५० ग्राम आँकुरित मूंग या मसूर व ५० ग्राम चने का सेवन अवश्य करें | ४० दिन में सारी समस्याएं ठीक हो जाएँगी और पूर्ण स्वस्थ्य लाभ मिल जायेगा जो लाखों रुपये खर्च करके भी प्राप्त न होगा | आर्थिक रूप से संपन्न लोग कमिनिहिर योग का सप्ताह में दो बार या आवश्यकतानुसार प्रयोग करके ७० वर्ष की आयु में भी १७ वर्ष की आयु जैसे यौवन का ज्वार पैदा कर सकते हैं|