2016-01-31

बार बार पेशाब आने के घरेलू उपचार :The Treatment of oftentimes urine



कुलथी का प्रयोग-
कुलथी में केल्शियम , आयरन और पॉलीफिनॉल होता है ,इसमे पर्याप्त एंटीऑक्‍सीडेंट होते हैं| थोड़ी सी कुलथी को गुड के साथ रोज सुबह लेने से मूत्राशय की खराबी दूर हो जाएगी।
अनार पेस्ट-
यह मूत्राशय की गर्मी शांत करता है। अनार के छिलके का पेस्ट बनाएँ और उसका छोटा भाग पानी के साथ दिन में दो बार खाइये। ऐसा 5 दिनों के लिये करें, आपको इससे आराम मिलेगा।
तिल के बीज-
तिल के दानों में एंटी ऑक्‍सीडेंट्स, खनिज तत्व और विटामीन्स होते हैं। आप इसे गुड या फिर अजवाइन के साथ सेवन कर सकते हैं।
दही को हर रोज खाने के साथ खाना चाहिये। इसमें मौजूद तत्व मूत्राशय में खतरनाक रोगाणुओं को बढ़ने से रोकते है।
मेथी पावडर को सूखी अदरक और शहद के साथ मिला कर पानी के साथ खाएं। ऐसा हर दो दिन पर करें। बार बार पेशान आने की समस्या मे लाभ होगा |

शहद और तुलसी 
एक चम्‍मच शहद के साथ 3-4 तुलसी की पत्तियाँ मिलाएं और खाली पेट सुबह खाएं।
बेकिंग सोडा 
यह पेशाब के पीएच बैलेंस को नियंत्रित करेगा। 2-3 ग्राम सोडा को 1 गिलास पानी के साथ मिलाकर पीये |
खूब पानी पियें
 आप जितना ज्‍यादा पानी पियेंगे आपका शरीर उतना ही ज्यादा हाइड्रेट रहेगा और किडनी से गंदगी निकलेगी। एक पुरुष को लगभग 3 लीटर पानी हर दिन पीना चाहिये।
उबली पालक 
अगर आपने रात को डिनर के रूप में उबली हुई पालक खाई है तो बार बार पेशाब जाने की दिक्कत पर कुछ विराम लग सकता है। यह आपको पोषण भी देगा।