अस्थि मृदुता लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
अस्थि मृदुता लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

2016-06-04

हड्डियाँ ताकतवर बनाने के उपचार// Measures to strengthen bones



अस्थि भंगुरता के सरल उपचार-
                                                                               

५० वर्ष की आयु के बाद शरीर की अस्थियां कमजोर होने लगती हैं,इसे अस्थि भंगुरता,अस्थि मृदुता या अस्थि क्छरण कहते हैं। हड्डिया पतली और खोखली होने लगती हैं और इतनी कमजोर व भंगुर हो जाती है कि झुककर किसी वस्तु को उठाने या साधारण भार पडने अथवा मामूली सी चोंट लगने पर भी अस्थि-भंग(बोन फ़्रेक्चर)हो जाता है। केल्सियम,फ़ास्फ़ोरस व अन्य तत्व की कमी हो जाने से अस्थि मृदुता रोग होता है। इन तत्वों की कमी से अस्थि-घनत्व( बोन डेन्सिटी)का स्तर गिर जाता है। यह रोग पुरुषों की बजाय महिलाओं में ज्यादा होता है। कुल्हे की हड्डी, कलाई की हड्डी और रीढ की हड्डी के फ़्रेक्चर की घटनाएं ज्यादा होती हैं।


पथरी की अचूक हर्बल औषधि से डाक्टर की बोलती बंद!


अस्थि भंगुरता के लिये निम्न कारण जिम्मेदार माने जाते हैं---
१) अधिक आयु होना२) शरीर का वजन कम होना
३) कतिपय अंग्रेजी दवाएं अस्थि भंगुरता जनक होती हैं