ज्वर चिकित्सा लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
ज्वर चिकित्सा लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

14.7.17

सामान्य ज्वर (बुखार) की होम्योपैथिक औषधियाँ


वर्षा या पानी में भीगने, अत्यधिक शारीरिक परिश्रम करने, तेज धूप में अधिक देर रहने, सर्दी लगने अथवा अन्य कारणों से बुखार आ जाता है। इसे ही सामान्य ज्वर कहते हैं ।
एकोनाइट 30- ज्वर की प्रथमावस्था में दें । खासकर ठण्डी व सूखी प्यास लगे, बेचैनी हो- तब इस दवा का प्रयोग करना चाहिये ।

बेलाडोना 6, 30- सर्दी लग जाना, ऑख-मुंह लाल व चेहरे पर तमतमाहट आदि लक्षणों में इसका प्रयोग करना चाहिये ।
डल्कामारा 6, 30– बरसात के पानी में भीगने की वजह से अथवा तर (नम) हवा लगने के कारण आने वाले ज्वर में इससे लाभ होता है ।

रसटॉक्स 3, 30– वर्षा-पानी में भीगने की वजह से, ठण्डी हवा लगने के कारण होने वाले ज्वर में इसका प्रयोग करना चाहिये ।
पल्सेटिला 200– तेल-धी से बनी वस्तुओं को ज्यादा खाना, स्नान के बाद ज्वर आ जाना, ज्वर में प्यास बिल्कुल न हो- इन लक्षणों में यह दवा लाभप्रद सिद्ध होती है |


किडनी फेल (गुर्दे खराब) की हर्बल औषधि 

प्रोस्टेट ग्रंथि बढ्ने से मूत्र बाधा की हर्बल औषधि 

सिर्फ आपरेशन नहीं ,पथरी की 100% सफल हर्बल औषधि 

आर्थराइटिस(संधिवात)के घरेलू ,आयुर्वेदिक उपचार