मानसिक तनाव लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
मानसिक तनाव लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

16.9.18

जावित्री मसाले के औषधीय गुण

                                                                    

जावित्री (Mace Spice – javitri) एक मसाला है जिसका वैज्ञानिक नाम मिरिस्टिका फ्रेग्रेंस (Myristicafragrans) है। इसे जायफल की जुड़वां बहन के नाम से भी पुकारा जाता है। यह एक सुनहरे रंग का मसाला है जो कड़े छिल्‍के (hard shell) से जायफल को ढकता है। इस मसाले का आयुर्वेद नाम जतिसास्‍य या जतिफाला है और यह कई पोषक तत्‍वों से भरपूर होता है। जावित्री के फायदे अनिद्रा, खून का जमना (congestion), अस्‍थमा आदि के लिए हैं। जावित्री को पाउडर बनाकर मसाले के रूप में उपयोग किया जाता है जो कई प्रकार के स्‍वास्‍थ्‍य लाभ प्रदान करने में मदद करता है।
*अपने पोषक तत्‍वों के कारण जावित्री को आयुर्वेदिक औषधी के रूप में जाना जाता है। जावित्री में तांबा और आयरन बहुत अच्‍छी मात्रा में होते हैं। जावित्री में विटामिन ए, विटामिन बी 1 , विटामिन सी, विटामिन बी 2 और कैल्शियम(Calcium), मैग्‍नीशियम, फॉस्‍फोरस, मैंगनीज और जस्‍ता जैसे खनिजों जैसे कई विटामिन अच्‍छी मात्रा में उपलब्‍ध होते हैं। जावित्री में कई आवश्‍यक शीघ्रवाष्‍पशील तेल (essential volatile oils) होते हैं जैसे कि सफ्रोल, मैरिस्टिकिन, एमिमिसिन, युजीनॉल और फिक्स्ड तेल ट्रिमिरीस्‍टीन (fixed oil trimyristine) बहुत ही स्‍वस्‍थ्‍य मसाले के रूप में होता है।

तनाव करें छूमंतर

आजकल की जीवनशैली के चलते हर दूसरा व्‍यक्ति तनाव से ग्रस्‍त हैं। ऐसे में आपकी रसोई में मौजूद ये मसाला तनाव को दूर भगाता हैं। यह प्रभावशाली तरीके से तनाव और चिन्ता को दूर कर आपको शांत महसूस कराता है। तनाव दूर करने के साथ-साथ यह आपके मस्तिष्‍क को तेज करने में भी मदद करता है।
*मैस मसाले का एक और स्‍वास्‍थ्‍य लाभ रक्‍त परिसं‍चरण (blood circulation) को बढ़ावा देने की क्षमता है। जावित्री आपकी त्‍वचा और बालों को स्‍वस्‍थ रखने में मदद करता है और आपको अन्‍य संक्रमण और खतरों से बचाता है। रक्‍त परिसंचरण अच्‍छा होने से मधुमेह (diabetes) और अन्‍य दिल से संबंधित बीमारियों के खतरे को कम करता है।

अर्थराइटिस का दर्द दूर करें

जावित्री में मौजूद एंटी-इंफ्लेमेंटरी गुणों के कारण यह जोड़ों में दर्द और सूजन को दूर करने में मदद करता है। अगर आप भी अर्थराइटिस से परेशान रहते हैं तो 2 ग्राम जावित्री और थोड़ी सी सोंठ मिलाकर गर्म पानी के साथ खाने से अर्थराइटिस का दर्द दूर हो जाता है।
*इस मसाले में पोटेशियम (potassium) की अच्‍छी मात्रा होती है जो हृदय को स्‍वस्‍थ्‍य बनाए रखने में मदद करती हैं। सभी प्रकार की कार्डियोवैस्‍कुलर समस्‍याओं को दूर करने के लिए यह सबसे अच्‍छा विकल्‍प है। यह मसाला वासोडिलेटर (vasodilator) के रूप में कार्य करता है और रक्‍त वाहिकाओं को आराम दिलाने में सहायक होता है। जावित्री के फायदे उच्‍च रक्‍तचाप को नियंत्रित करने के लिए भी होते हैं जो पूरे शरीर में स्‍वस्‍थ्‍य रक्‍त *परिसंचरण (blood circulation) बनाए रखता है। यदि आप उच्‍च रक्‍तचाप की समस्‍या से जूझ रहे हैं तो आप जावित्री का उपयोग कर सकते हैं।

सर्दी जुकाम का इलाज

इस मसाले से आप अपनी सर्दी और जुकाम का इलाज भी कर सकते हैं। यह आपको फ्लू और वायरल रोगों से बचाता है और आपके शरीर को रोगों से सुरक्षित रखता है। इसका उपयोग खांसी के सिरप को तैयार करने के लिए भी किया जाता है। जावित्री अस्थमा के रोगियों के लिए बहुत अच्छा होता है।
*दांतों को स्‍वस्‍थ्‍य (Healthy Teeth) बनाने के लिए जावित्री का उपयोग बहुत ही फायदेमंद होता है। इसके साथ आप अपने मुंह की बदबू के उपचार के लिए भी इसका उपयोग कर सकते हैं। जावित्री के फायदे सभी प्रकार की दांत समस्‍याओं को दूर करने में मदद करते हैं। जावित्री मसाला दांतों और मसूढ़ों के दर्द को दूर करने का प्राकृतिक उपाय है और बहुत से दंत मंजनों में इसका उपयोग किया जाता है।


*आजकल की भाग दोड़ भरी जिन्दंगी में मानसिक तनाव एक ऐसे बीमारी है जो किसी को बक्श नहीं रही है| तनाव एक ऐसा शब्द बन गया है जो सुबह से उठते ही हर कोई महसूस करता है| आज हम जानेंगे तनाव के कारण, लक्षण एवं तनाव से बचने के उपाय| तनाव मुख्या रूप से दो प्रकार के होते है| अच्छा तनाव और बुरा तनाव, दोनों मे अंतर इतना है की एक तनाव तरक्की की तरफ ले जाता है और दूसरा समय और जिन्दंगी नष्ट करता है| अच्चा तनाव के कारण हम अपने काम को सही तरीके से और समय पर कर पाते है| वही दूसरी ओर बुरे तनाव के कारण हम अपनी सेहत को नुकसान पंहुचाते है और मानसिक बीमारियों को बुलाते है|
*मस्तिष्‍क स्‍वास्‍थ्‍य (Brain health) को बढ़ावा देने और मस्तिष्‍क के कार्यों को उत्‍तेजित करना जावित्री के प्रमुख स्‍वास्‍थ्‍य लाभों में से एक है। मस्तिष्‍क स्‍वास्‍थ्‍य के लिए जावित्री के फायदे सिर्फ इतने ही नहीं है, बल्कि यह तंत्रिका मार्गों को भी स्‍वस्‍थ्‍य बनाता हैं क्‍योंकि इसमें माइरिस्टिन और मेकेलिग्‍न (myristicin and macelignan) होते हैं। साथ ही यह आपके संज्ञानात्‍मक कार्यों को बढ़ाने वाले तत्‍व होते हैं। इन्‍ही उपयोगिताओं के कारण जावित्री मस्तिष्कि के लिए बहुत अधिक फायदेमंद होती है।

मुंह स्वास्थ्य के लिए अच्‍छा

जावित्री में एंटीबैक्‍टीरियल और एंटिफंगल गुण होते हैं। जो बैक्‍टीरिया के विकास को रोकते है जिससे सांसों की बदबू दूर होती है और मसूड़े स्वस्थ रहते है। युजनोल की उपस्थिति के कारण दांत दर्द कम करने के लिए इसका इस्तेमाल किया जाता है। यहां तक कि बहुत सारे टूथपेस्ट्स और ओरल केयर उत्पादों में एक जावित्री एक आम घटक है।
*मानसिक तनाव आजकल लोगो पर इतना हावी हो चुका है की लोगो को मनोचिकित्सक का सहारा लेना पड़ रहा है| यह एक भयंकर बीमारी का रूप ले रही है जिसका इलाज काफी कठिन है|
*इस मसाले का सेवन करने का एक और फायदा यह है‍ कि यह सर्दी और खांसी (Cold and Cough) से आपकी रक्षा करता है। इस मसाले का सेवन करने से यह फ्लू और वायरल बीमारियों से आपको बचाता है। इस मसाले में मौजूद गुणों के कारण यह आपके मस्ति‍ष्‍क, अस्‍थमा (asthma) और अन्‍य श्वसन संबंधी समस्‍याओं का उपचार करने में मदद करता है। यदि आप जावित्री के फायदे नहीं जानते थे, तो अब आप इसका उपयोग कर लाभ प्राप्‍त कर सकते हैं।

त्‍वचा के लिए उत्‍कृष्‍ट

सेहत के साथ-साथ जावित्री त्‍वचा के लिए भी बहुत अच्‍छा होता है। जी हां जावित्री मसाले का इस्‍तेमाल पुराने समय से ही त्‍वचा देखभाल के लिए किया जाता है। इसमें मौजूद एंटी-बैक्‍टीरियल, एंटी-इंफ्लेमेटरी और सुखदायक गुण त्‍वचा की अच्‍छे से देखभाल करते हैं। यह जलन को कम और त्‍वचा को अच्‍छे से हाइड्रेट्स करता है। साथ ही जावित्री मुंहासे के निशान और ब्लैकहैड्स को दूर करता है। यह पोर्स को साफ और मृत त्वचा को निकालने में मदद करता है।
*आप अपने गुर्दे को स्‍वस्‍थ्‍य रखने के लिए जावित्री का उपभोग कर सकते हैं। इसमें गुर्दे की रक्षा करने की क्षमता होती है। यह आपके शरीर में गुर्दे के पत्‍थरों के विकास को रोकने में मदद करता है, और यदि आपको गुर्दे की पथरी(kidney stone) है तो यह उन्‍हें दूर करने में भी मदद करता है। गुर्दे के संक्रमण और अन्‍य संबंधित समस्‍याओं को दूर करने का जावित्री एक प्राकृतिक उपाय है।
किडनी फेल (गुर्दे खराब) की हर्बल औषधि 

प्रोस्टेट ग्रंथि बढ्ने से मूत्र बाधा की हर्बल औषधि 

सिर्फ आपरेशन नहीं ,पथरी की 100% सफल हर्बल औषधि 

आर्थराइटिस(संधिवात)के घरेलू ,आयुर्वेदिक उपचा