ज्यादा पानी पीना खतरनाक लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
ज्यादा पानी पीना खतरनाक लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

30.7.19

ज्यादा पानी पीना हो सकता है खतरनाक



पानी की कमी और अधिकता दोनों ही है खतरनाक
पानी की कमी और अधिकता दोनों ही सेहत के लिए खतरनाक है. पानी की कमी से जहां डी-हाइड्रेशन होने का खतरा बढ़ जाता है वहीं बहुत ज्यादा पानी पीने वाले व्यक्त‍ि को ओवरहाइड्रेशन की शिकायत हो जाती है
इस समस्या से सबसे अधिक एथलीट प्रभावित होते हैं. पानी की कमी से एक ओर जहां उनकी मांस-पेशियों में ऐंठन आ जाती है वहीं बहुत अधिक पानी पीने से उनके खून का गाढ़ापन कम हो जाता है. विशेषज्ञों की मानें पानी उतना ही पीना चाहिए जितने से प्यास बुझ जाए. प्यास नहीं लगी हो तो जबरदस्ती पानी नहीं पिएं.
बहुत अधिक पानी पी लेने से चक्कर आने लगते हैं और व्यक्त‍ि असहज महसूस करने लगता है. कई बार तो दिल की धड़कन भी तेज हो जाती है. पर इसका मतलब ये बिल्कुल नहीं है कि कम पानी पीना चाहिए. अल्कोहल को छोड़कर हम जो भी तरल लेते हैं, उसमें पानी की कुछ मात्रा तो होती ही है.
प्यास लगने का मतलब शरीर में पानी की कमी हो गई है. प्यास लगना सेहत के लिए अच्छा है. पानी तभी पिएं जब आपको इसकी जरूरत महसूस हो. घड़ी-घड़ी, जबरदस्ती पानी पीना सही नहीं है. शरीर में पानी की मात्रा बनी रहनी चाहिए लेकिन ज्यादा नहीं.पानी सेहत के लिए जरूरी है। मगर जरूरत से ज्यादा पानी मोटापा भी दे सकता है। आमतौर पर लोग यह मानते हैं कि पानी पीने से वजन घटता है और फैट बर्न होता है। ये बातें सही भी हैं। आमतौर पर डॉक्टर मानते हैं कि एक स्वस्थ व्यक्ति को एक दिन में 2-4 लीटर पानी पीना चाहिए। विशेष स्थितियों जैसे-जिम, एक्सरसाइज, भारी मेहनत या गर्मी के कारण इसकी मात्रा बढ़ा सकते हैं। मगर आप सामान्य तौर पर रोजाना 5-6 लीटर से ज्यादा पानी पीते हैं, तो यह आपके स्वास्थ्य पर विपरीत असर भी डाल सकता है। 
हम सभी जानते हैं कि पानी हमारे स्वास्थ्य और जीवन के लिए कितना जरूरी है। इसके अलावा खुद को हाइड्रेट रखने के लिए दिन में कम से कम दो लीटर पानी जरूर पीना चाहिए , जैसा कि डॉक्टर भी सिफारिश करते हैं। विशेषज्ञों का कहना है कि अगर सही समय पर पर्याप्त मात्रा में पानी पिया जाए, तो हमें कई रोगों से बचने में मदद मिलती है और हमारा शरीर भी तंदरुस्त रहता है। हालांकि आप इस बात से जरूर अंजान होंगे कि जरूरत से ज्यादा पानी पीने के दुष्परिणाम भी हो सकते हैं। ऐसे में इस बात का ख्याल रखना बेहद जरूरी है कि प्यास न लगने पर भी पानी न पीएं, जो कि आपकी सेहत को नुकसान पहुंचा सकता है।
ज्यादा पानी पीने से आ सकती है सूजन
ज्यादा पानी पीने से न केवल आपके शरीर में मौजूद इलेक्ट्रोलाइट्स का असंतुलन होता है बल्कि आपके हाथ, पैर और होठों पर भी सूजन आ सकती है। अधिक मात्रा में पानी पीने से खून में मौजूद सोडियम की मात्रा घटने लगती है, जिसके कारण हाथ, पैर और होंठों में सूजन आ जाती है और शरीर के कई अंगों को भी नुकसान पहुंचता है।
किडनी पर भी बुरा प्रभाव
जरूरत से ज्यादा पानी पीने से ओवरहाइड्रेशन की समस्या हो सकती है। ओवरहाइड्रेशन का असर सीधा किडनी पर पड़ता है। दरअसल किडनियां ही हमारे शरीर में पानी को फिल्टर करने का काम करती हैं। अगर आप रोजाना ज्यादा मात्रा में पानी पीते हैं, तो किडनियों पर काम का बोझ ज्यादा पड़ता है, जिससे लंबे समय में किडनी फेल होने का भी खतरा हो सकता है।
पेशाब का रंग साफ आना भी समस्या
सभी जानते हैं कि जब पेशाब गहरे रंग का होता है तो यह डीहाइड्रेशन का संकेत होता है। लोग इसका गलत मतलब निकाल लेते हैं और ज्यादा पानी पीने लगते हैं उन्हें लगता है कि ऐसा करने से आपके पेशाब का रंग बिल्कुल साफ हो जाएगा। हाइड्रेशन उस वक्त हेल्दी लेवल पर होता है जब आपके पेशाब का रंग हल्का पीला हो। अगर पेशाब बिल्कुल साफ आ रहा है तो समझ लीजिए कि आप जरूरत से ज्यादा ज्यादा हाइड्रेट हैं और पानी की मात्रा को कम करें।
ज्यादा पानी से दिमाग में सूजन
एक शोध में पाया गया है कि शरीर में ज्यादा मात्रा में पानी हो जाने पर सोडियम का लेवल तेजी से कम होने लगता है। सोडियम का स्तर घटने से मस्तिष्क में सूजन आ सकती है, जो कि एक खतरनाक स्टेज है। शोध में पाया गया है कि ज्यादा पानी पीने के कारण शरीर में असामान्य रूप से सोडियम कम होने लगता है इसलिए हाइपोट्रिमिया का खतरा बढ़ जाता है। सोडियम एक तरह का इलेक्ट्रोलाइट है, जो हमारे शरीर में पानी की मात्रा को नियंत्रित करता है।
ज्यादा पेशाब आना
अगर आप भी उन लोगों में शामिल हैं, जिन्हें बार-बार पेशाब आता है तो ज्यादा पानी पीने की आदत को छोड़ दे। हालांकि यह समस्या पेशाब की नली में संक्रमण, डायबिटीज और प्रोस्टेट कैंसर की दिक्कत के कारण भी हो सकती है।
पानी पीने से ऐसे बढ़ता है वजन
हमारा वजन तब बढ़ता है, जब शरीर में फैट जमा होता है। जमे हुए फैट सेल्स में पानी की मात्रा भी होती है। ऐसे में अगर आप जरूरत से ज्यादा पानी पीते हैं, तो किडनी पूरे पानी को शरीर से बाहर निकालने में सक्षम नहीं होती है। बचा हुआ पानी शरीर में इलेक्ट्रोलाइट का बैलेंस बिगाड़ता है। इससे पानी शरीर में जमा हो जाता है और आपका वजन बढ़ जाता है। 24 घंटे में ही यह जमा हुआ पानी शरीर से निकल जाता है। हालांकि अगर आपको रोज ज्यादा पानी पीने की आदत है, तो मोटापे की समस्या हो सकती है।
ज्यादा पानी पीने से इलेक्ट्रोलाइट्स हो सकते हैं असंतुलित
जब आपको प्यास नहीं लगती है लेकिन फिर भी बोतल या गिलास को मुंह से लगाकर पानी पीने लगते हैं तो इस आदत को त्याग दें। प्यास लगने पर शरीर को जितनी जरूरत है उतने पानी की पूर्ति हो जाती है लेकिन आपको प्यास नहीं लगी है और फिर ही आप पानी पी रहे हैं तो आपके शरीर में पाए जाने वाले इलेक्ट्रोलाइट्स असंतुलित होना शुरू हो जाते हैं। इस स्थिति के कारण इलेक्ट्रोलाइट्स में असंतुलन हो जाता है।
हार्ट फंक्शन बिगाड़ सकता है ज्यादा पानी पीना
जरूरत से ज्यादा पानी पीने से पोटेशियम, सोडियम और मैग्नेशियम जैसे शरीर के इलेक्ट्रोलाइट्स का संतुलन बिगड़ सकता है, जो हमारी किडनी से लेकर ह्रदय गतिविधियों तक के का संचालन को खराब कर सकती है। ऐसी स्थिति में आपका शरीर सही तरह से काम करना बंद कर देगा और कई रोग आपको अपनी चपेट में ले लेंगे। अगर आप मेहनत कर रहे हैं या गर्मी में घर से बाहर हैं तभी आपको ज्यादा पानी पीना चाहिए।

किडनी फेल (गुर्दे खराब) की हर्बल औषधि 

प्रोस्टेट ग्रंथि बढ्ने से मूत्र बाधा की हर्बल औषधि 

सिर्फ आपरेशन नहीं ,पथरी की 100% सफल हर्बल औषधि 

आर्थराइटिस(संधिवात)के घरेलू ,आयुर्वेदिक उपचार