दांत दर्द ठीक लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
दांत दर्द ठीक लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

13.1.19

लौंग के फायदे और औषधीय उपयोग

  
                                             
लौंग में होने वाला एक खास तरह का स्वाद इसमें होने वाले एक तत्व युजेनॉल की वजह से होता है, यही तत्व इसमें होने वाली एक खास तरह की गंध को पैदा करता है। हालांकि लौंग हर मौसम में हर उम्र के व्यक्तियों के लिए लाभदायक है पर सर्दी के मौसम में इसकी खास उपयोगिता है क्योंकि इसकी तासीर बहुत गर्म होती है। लौंग के तेल की तासीर काफी गर्म होती है और इस कारण इसे बहुत सावधानी से इस्तेमाल करना चाहिए। जब आप अपनी त्वचा पर इसे लगाएं तो सीधे तौर पर बिना किसी चीज़ के साथ मिलाए न लगाएं। 
 लौंग वैसे तो सदाबाहर औषधि है, लेकिन इसकी तासीर गर्म होने की वजह से गर्मियों की तुलना में सर्दियों में इसका सेवन अधिक किया जाता है। लौंग में फॉस्फॉरस, पोटैशियम, प्रोटीन, आयरन, सोडियम, कार्बोहाइड्रेट्स, कैल्शियम और हाइड्रोक्लोरिक ऐसिड भरपूर मात्रा में होता है। लौंग में विटमिन 'ए' और 'सी' के साथ ही मैग्नीशियम और फाइबर भी मौजूद होता है। ठंड में लौंग की चाय पीना सेहत के लिए अच्छा होता है। जानें, लौंग की चाय के फायदों के बारे में...
*लौंग की चाय से पाचन संबंधी समस्याओं को दूर किया जा सकता है। लौंग की चाय पाचन तंत्र को उत्तेजित करती है और ऐसिडटी को कम करती है। खाना खाने से पहले लौंग की चाय पीने से लार के उत्पादन की प्रक्रिया उत्तेजित होती है जो भोजन पाचने में मददगार होती है। 
*खांसी और बदबूदार सांसों के इलाज के लिए लौंग बहुत कारगर है। लौंग का नियमित इस्तेमाल इन समस्याओं से छुटकारा दिलाता है। आप लौंग को अपने खाने में या फिर ऐसे ही सौंफ के साथ खा सकते हैं।


दर्द करे छूमंतर

लौंग की चाय दांत दर्द को दूर करने में सहायक है। इसमें एंटीबैक्टीरियल गुण पाए जाते हैं। लौंग का तेल भी दांत दर्द से आराम दिलाता है। दर्द के समय अगर एक लौंग मुंह में रख लें और उसके मुलायम होने के बाद हल्के-हल्के चबाएं तो दांत दर्द ठीक हो जाता है। सिर दर्द होने पर लौंग का तेल माथे पर लगाने से राहत मिलती है।

कफ हटाए

साइनस या चेस्ट में कफ की समस्या को दूर करने में लौंग की चाय मददगार होती है। अगर आपको साइनस की शिकायत है तो रोजाना सुबह लौंग की चाय पीने से इंफेक्शन खत्म होता है और साइनस से राहत मिलती है। लौंग में मौजूद यूगेनॉल भरी हुई चेस्ट से फौरन राहत प्रदान करने में सहायक होता है।
*लौंग में दिमागी स्ट्रेस को कम करने का भी गुण होता है। लौंग को आप तुलसी, पुदीना और इलायची के साथ इस्तेमाल करके खुशबुदार चाय बना सकते हैं और चाहें तो यही मिक्स आप शहद के साथ इस्तेमाल करके भी स्ट्रेस से छुटकारा पा सकते हैं। 
*लौंग के इस्तेमाल से बनी चाय से बालों को बहुत फायदा होता है। लौंग की चाय को बाल कलर करने और शैम्पू करने के बाद लगाना चाहिए। इसे ठंडा करने के बाद ही बालों पर इस्तेमाल करना चाहिए। आपके बालों को सुंदर बनाने में यह बहुत कारगर है।

अस्थमा हो तो


लौंग को पानी में उबालकर काढ़ा बना लें। इसमें शहद मिलाकर दिन में तीन बार पीने से अस्थमा रोगियों को काफी लाभ होता है। लौंग के तेल का अरोमा भी श्वास रोगों से राहत दिलाने में मददगार होता है। इसे सूंघने मात्र से ही जुकाम, कफ, दमा, ब्रोंकाइटिस, साइनसाइटिस आदि समस्याओं में तुरंत राहत मिलती है।
*लौंग के उपयोग से उलटी आने की समस्या, जी घबराना और मॉर्निंग सिकनेस में आराम मिलता है। लौंग के तेल को इमली, थोडी सी शक्कर के साथ पानी के साथ पीना चाहिए।

संक्रमण करे दूर

आयुर्वेदाचार्य डॉ चंद्र मोहन बताते हैं, एंटीसेप्टिक गुणों के कारण लौंग कई तरह की त्वचा संबंधी समस्याओं और संक्रमणों को दूर करने में सहायक है। लौंग में कई प्रकार के तेल मौजूद होते हैं जो शरीर के विषैले तत्वों को दूर करते हैं। इसे घाव पर लगाने से इंफेक्शन नहीं होता और घाव जल्दी भरता है।

किडनी फेल (गुर्दे खराब) की हर्बल औषधि

प्रोस्टेट ग्रंथि बढ्ने से मूत्र बाधा की हर्बल औषधि

सिर्फ आपरेशन नहीं ,पथरी की 100% सफल हर्बल औषधि

आर्थराइटिस(संधिवात)के घरेलू ,आयुर्वेदिक उपचार