योग आसन बेहतर सेक्स लाईफ के लिए लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
योग आसन बेहतर सेक्स लाईफ के लिए लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

26.6.17

योग आसन बेहतर सेक्स लाईफ के लिए




   योग एक ऐसा आसन होता है जो आपको पूर्ण रूप से स्वस्थ होने में मदद करता है। खुद को स्वस्थ रखने के लिए उम्र की कोई सीमा नहीं होती है। आप किसी भी उम्र में योगासन करना शुरू कर सकते हैं। सिर्फ योग करने का सही तरीका और जानकारी के बारे में पता होना चाहिए। योग आपको शारीरिक और मानसिक रूप से स्वस्थ रखने में सहायता करता है। जब आप शारीरिक और मानसिक रूप से पूर्ण स्वस्थ होंगे तभी किसी भी उम्र में एक स्वस्थ सेक्स जीवन को जी पायेंगे। जीवन हो या शरीर किसी भी क्षेत्र में कोई भी समस्या हो उसका सीधा प्रभाव आपके सेक्स जीवन पर पड़ता है।
   अगर आप किसी भी कारणवश तनाव या अवसाद में हैं सेक्स के प्रति रूची कम हो जाएगी। शरीर में किसी भी प्रकार का कष्ट सेक्स के दौरान चरम अवस्था तक पहुँचने में बाधा उत्पन्न कर सकता है। आपके खराब जीवनशैली या किसी भी प्रकार के बीमारी के कारण कई प्रकार के सेक्स संबंधी समस्याओं का सामना आपको करना पड़ सकता है, जैसे- इरेक्टाइल डिसफंक्शन(erectile dysfunction) या शीघ्रपतन (premature ejaculation) आदि। कहने का मतलब यह है कि सेक्स लाइफ का पूरा आनंद उठाने के लिए खुद को स्वस्थ रखना ज़रूरी होता है। तभी आप एक दूसरे को पूर्ण रूप से संतुष्ट और खुश कर पायेंगे।
स्वस्थ और बेहतर सेक्स जीवन का आनंद उठाने के लिए अन्य उपायों का सहारा लेने के बजाय योग का सहारा लेना सबसे सुरक्षित और सही उपाय होता है। इन योगासनों के द्वारा आप अपने सेक्स लाइफ का पूरा आनंद उठा सकते हैं-

हलासन-
 इस आसन को करने के लिए पहले शवासन के मुद्रा में लेट जाये। फिर अच्छी तरह से साँस लेने के बाद कमर से पैरों को पीछे की ओर धीरे-धीरे ले जाये। और हाथों को उल्टे दिशा में सीधा करके रखें। कुछ सेंकेड इस अवस्था में रहने के बाद शरीर को पूर्व के अवस्था में लेकर जाये।
लाभ-
 यह आसन करने से यौनांगों में उत्तेजना का संचार होता है जिसके कारण काम की इच्छा जागृत होती है। अगर किसी को नपुंसकता की समस्या है तो इस आसन के द्वारा इस समस्या से भी धीरे-धीरे राहत मिलने लगती है।
उष्ट्रासन-
  इस आसन को करने के लिए चटाई पर पहले घुटनों के बल बैठना चाहिए। फिर घुटनों को फर्श पर टिकाये रखते हुए शरीर को सीधा करके बैठ जाना चाहिए। फिर धीरे-धीरे शरीर को पीछे झुकाते हुए पैर के तलवों को छुने की कोशिश करनी चाहिए। कुछ सेंकेड तक इस अवस्था में रहने के बाद शरीर को फिर से पूर्व के अवस्था में लौटाकर लाना चाहिए।
लाभ- 
इस आसन को करने से गुप्तागों में रक्त का संचार अच्छी तरह से हो पाता है। इसके कारण सेक्स के दौरान शरीर में अपुर्व ऊर्जा का संचार होने लगता है जो सेक्स के आनंद को उठाने में मदद करता है।


सर्वांगासन- 

  इस आसन को करने के लिए पहले चटाई पर सीधा लेट जाये। फिर दोनों पैरों को मिलाते हुए हाथों के सहारे शरीर को धीरे-धीरे ऊपर उठायें। इस अवस्था में हथेली फर्श से सटी हुई होनी चाहिए। 





आर्थराइटिस(संधिवात)के घरेलू ,आयुर्वेदिक उपचा