शरीर का सुन्नपन लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
शरीर का सुन्नपन लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

18.2.19

वात रोगों मे उपयोगी हर्बल नुस्खे



उम्र बढने के साथ-साथ हर किसी को वात रोग की समस्या होने लगती है | इस रोग में जोड़ों में, कमर में, दर्द रहता है साथ ही यूरिक एसिड सम्बंधित कई समस्याओं का सामना करना पड़ता है | आयुर्वेद के अनुसार शरीर में वायु के प्रभवित या कुपित होने के कारण वात रोग होते है | इसलिए वायु उत्पन्न करने वाले भोजन को त्याग कर उचित औषधि का सेवन करना चाहिए | आज हम आपको वात रोग से बचने के लिए काफी आसान और सरल नुस्खों से परिचित कराने जा रहे हैं, जिनका इस्तेमाल आपको वात रोगों से राहत प्रदान करेगा |
वात रोगों को दूर करने के उपाय
*हर्रे,सोठ और अजवाइन की बराबर-बराबर मात्र ले | और इसके चूर्ण को गुनगुने पानी से पियें | इससे सभी प्रकार के वात रोग दूर होते है |
*सोठ का चूर्ण आधा चम्मच और जायफल या जावित्री का चूर्ण चौथाई चम्मच एलोवेरा के साथ लेते रहने से 2 से 3 महीने तक में वात रोग दूर हो जाता है |

*त्रिफला का चूर्ण गो मूत्र के साथ लेने से वात और कफ से सम्बन्धित रोग दूर होते है |
*यदि डायबिटीज का रोगी न हो, तो उसे प्रतिदिन सुबह मेथी के दाने का पावडर मिश्री के साथ देने से वात रोग दूर होता है |
*सोठ ,कालीमिर्च,और सेधा नमक का चूर्ण भोजन के बाद लेने से आमवात रोग दूर होता है | जो सभी वात रोगों का कारण होता है |

*लहसुन की 2 कलियाँ भूनकर खाने से कमर के वात रोग दूर होते है |
*वात रोग को दूर करने के लिए मेथी का दाना, सोठ दोनों 100 gram ले और कालीमिर्च,पीपल धनिया,जावित्री,दालचीनी और नागरमोथा का चूर्ण 10-10 gram ले | इन सभी को लगभग 300 gram एलोवेरा के साथ भून ले अब 100 gram देशी घी के साथ भूनकर रख ले | 100 gram देशी पुराना गुड़ मिलाकर गर्म करे और 20 gram वजन के बराबर लड्डू बनाकर रख ले | प्रतिदिन एक लड्डू खाने से वात रोग ,अपच और गैस रोग दूर होता है |
*असगंध का चूर्ण , मिश्री,और घी मिलाकर खाने से वात रोग के कारण होने वाला कमर का दर्द ठीक हो जाता है |*धनियाँ और मिश्री का चूर्ण 3:1 कि मात्रा में सुबह लेने से गर्मी के कारण होने वाला वात रोग( कमर और जोड़ो का दर्द ) दूर हो जाता है |
*दशमूल का काढ़ा,हींग और सेधा नमक मिलाकर पीने से लकवा या पक्षाघात में आराम मिलता है |
*अदरख का रस पुराने गुड़ के साथ ले और ऊपर से बकरी का दूध पीने ऐ सभी प्रकार के सूजन दूर हो जाते है |
*केवल गो-मूत्र पीने से भी सूजन दूर हो जाती है |
शहद और गुड़ के साथ पीपल का सेवन करने से शरीर का सुन्नपन दूर होता है |

विशिष्ट परामर्श-  

संधिवात,कमरदर्द,गठिया, साईटिका ,घुटनो का दर्द आदि वात जन्य रोगों में जड़ी - बूटी निर्मित हर्बल औषधि ही अधिकतम प्रभावकारी सिद्ध होती है| रोग को जड़ से निर्मूलन करती है| औषधि से बिस्तर पकड़े पुराने रोगी भी दर्द मुक्त गतिशीलता हासिल करते हैं| औषधि के लिए वैध्य श्री दामोदर से 98267-95656 पर संपर्क कर सकते हैं|