- सेंधा नमक लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
- सेंधा नमक लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

3.7.19

पैरों में ऐंठन और दर्द से राहत के उपाय

                                        
पैरों का दर्द – ज्यादा देर तक खड़े रहने या फिर चलने की वजह से पैरों में दर्द की शिकायत होना वैसे तो आम समस्या है लेकिन अगर आपके पैरों में आए दिन दर्द रहता है और उसके साथ ही कमज़ोरी भी महसूस होती है तो इस समस्या को हल्के में ना लें. पैरों में बार-बार होनेवाले दर्द से निजात पाने के लिए आमतौर पर लोग डॉक्टर की मदद लेते हैं लेकिन अगर आप कुछ घरेलू नुस्खों का इस्तेमाल करके अपने पैरों की देखभाल करेंगे तो भी आपको इस समस्या से काफी हद तक राहत मिल सकती है. आइए हम आपको 5 घरेलू उपचार बताते हैं जो आपके पैरों का दर्द पल भर में गायब कर सकते हैं और इन नुस्खों से किसी नुकसान का डर भी नहीं है.
अक्‍सर मसल्स को आराम न मिलने की वजह से पैरों और हाथों में ऐंठन होने लगती है। यह सुबह या रात में सोते समय भी हो सकता है। ये ऐसी समस्‍या है जो आपको कई बार रूला देती है। ऐसे में यह जानना आवश्यक है कि पैरों में ऐंठन और अकड़न क्‍यों होता है और इससे कैसे बचा जाए।
पैरों में ऐंठन और दर्द का कारण और बचाव

इलेक्ट्रोलाइट यानी पोटाशियम, सोडियम, कैल्शियम और मैग्नीशियम में संतुलन होना बहुत जरूरी है। दरअसल ये ऐसे आवश्यक तत्व हैं जिनके चलते मसल्स में सिकुड़न और रिलैक्सेशन होता है। इसका मतलब यह नहीं है कि पैरों के ऐंठन का इलाज खुद करने लगे। अतिरिक्त सप्लीमेंट लेने से आपके शरीर में नुकसान हो सकता है। बेहतर यही है कि अपने खानपान में विकल्पों को शामिल करें ताकि तमाम आवश्यक तत्व आपके शरीर में आसानी से जा सकें।
कुछ दवाओं के चलते भी पैरों में दर्द, ऐंठन और अकड़न हो सकती है। विशेषज्ञों की मानें तो कोई भी दवा बिना चिकित्सक की सलाह के नहीं लेना चाहिए। यदि किसी दवा के कारण आपके पैरों में दर्द हो तो तुरंत विशेषज्ञों से संपर्क करें। लेकिन अगर आप दर्द को दूर करने के लिए घरेलू उपायों का इस्‍तेमाल कर रहे हैं और किसी भी घरेलू उपचार के जरिये न जाए तो ऐसे में बेहतर है कि दवा का सहारा लें।
किसी विशेषज्ञ से संपर्क करें और सलाह अनुसार दवा ही लें। अगर आप सही तरह से एक्सरसाइज नहीं करते तो यह समस्या हो सकती है। स्ट्रेच करें और वार्म-अप एक्सरसाइज अवश्य करें। इन तमाम वजहों को जानने के बाद यह जानना आवश्यक है कि लेग क्रैम्प यानी पैरों में ऐंठन, अकड़न आदि को कैसे रोका जा सकता है?
इसके लिए आपको कुछ निम्न चीजों पर ध्यान देना होगा। यदि सोकर उठते ही आपके पैरों में दर्द, अकड़न या ऐंठन हो तो ऐसे में जरूरी है कि आप सीधे होकर खड़े होने के बाद जहां दर्द है, उस पर जोर दें। ऐसा करने से दर्द या ऐंठन से मुक्ति मिल सकती है।
दर्द भरी जगहों पर गर्म कपड़े का उपयोग किया जा सकता है। ऐसा करने से ब्लड सर्कुलेशन बेहतर होता है। यही नहीं मसल्स भी आरामदायक स्थिति में पहुंच जाते हैं। यदि गर्म कपड़े न लगाने हो तो गुनगुने पानी में पैरों की सिकाई भी की जा सकती है। स्ट्रेच भी कई प्रकार के होते हैं। पहले यह तय करें कि आपका दर्द किस तरह का है।
काल्फ स्ट्रेच के दौरान दीवार की तरफ मुंह करके खड़ा होना होता है। आपके हाथ दीवार की ओर होते हैं। एक पैर पीछे की और दूसरा पैर आगे की ओर। ठीक ऐसे जैसे बछड़े की पोजिशन होती है। ऐसा करने से पैरों को संपूर्ण स्ट्रेच मिलता है और दर्द में आराम। पैरों में दर्द और ऐंठन की हमेशा शिकायत रहती है तो बेहतर है कि शराब न पीयें।
शराब कम करने के साथ साथ जरूरी है कि शारीरिक गतिविधियों पर भी ध्यान दें। यदि आपने शराब छोड़ दी है; लेकिन शारीरिक गतिविधी न के बराबर है तो भी इसका कोई लाभ नहीं मिलने वाला। ऐंठन और अकड़ने से बचने के लिए जरूरी है कि आप निरंत शारीरिक गतिविधियों में संलग्न रहें। दर्द, ऐंठन आदि से बचने के लिए शरीर में कैल्शियम की मात्रा बनी रहनी चाहिए।

यदि ऐसा न हो तो शरीर दर्द आदि समस्याओं से घिरा रहता है। अतः संतुलित आहार लेकर शरीर को दर्द से मुक्ति दिलाएं। शायद आप इस वजह से वाकिफ न हों। लेकिन विशेषज्ञों की मानें तो यदि आपके शरीर में पानी की कमी होगी तो आपके पैरों में ऐंठन आने की आशंका बनी रहेगी। अतः पानी की मात्रा शरीर में कम न होने दें।
हालांकि यदि आप स्ट्रेचिंग करते हैं तो आपको अतिरिक्त एक्सरसाइज की जरूरत नहीं होती। लेकिन नियमित एक्सरसाइज करने से शरीर के अन्य भागों में भी दर्द नहीं होता। हाथ, गर्दन, पीठ, कमर आदि शरीर के अंगों भी अकसर दर्द से घिरे रहते हैं। राहत हासिल करने के लिए जरूरी है कि नियमित एक्सरसाइज करें।
पैरों का दर्द मे हितकारी उपचार  – 
1- सिरका -सूजन मोच या ऐंठन की वजह से अगर आपके पैरों में दर्द हो रहा है तो फिर इससे राहत पाने के लिए आप सिरके का इस्तेमाल कर सकते हैं. आपको बता दें कि सिरका पैरों में होनेवाले दर्द का कारगर इलाज है. इसके लिए एक बाल्टी गर्म पानी में दो बड़ा चम्मच सिरका मिलाएं और एक छोटा चम्मच सेंधा नमक मिलाएं. अब इस पानी में अपने पैरों को करीब 20 मिनट के लिए डूबाकर रखें. इस नुस्खे से आपको तुरंत आराम मिलेगा.
2- सेंधा नमक -सेंधा नमक पैरों के दर्द से निजात दिलाने का एक असरदार घरेलू नुस्खा है. इस नुस्खे को आज़माने के लिए एक टब में गर्म पानी डालें फिर उसमें 2-3 चम्मच सेंधा नमक मिलाएं. इसके बाद टब में अपने पैरों को 10 से 15 मिनट के लिए डालकर रखें. इससे आपको पैरों के दर्द से तुरंत आराम मिलेगा.

3- आइस थेरेपी पैरों के सूजन और असहनीय दर्द को कम करने के लिए आइस थेरेपी एक कारगर नुस्खा माना जाता है. इस नुस्खे को आज़माने के लिए एक छोटे से प्लास्टिक की थैली में कुचले हुए बर्फ के कुछ टुकड़े डालें और दर्द को दूर करने के लिए सर्कुलर मोशन में प्रभावित हिस्से की मालिश करें. इससे पैर के सूजन को कम करने में मदद मिलेगी. लेकिन ध्यान रखें कि आइस पैक का उपयोग एक वक्त में 10 मिनट से ज्यादा देर तक नहीं करना है.
4- लौंग का तेल लौंग का इस्तेमाल सदियों से औषधि के रुप में किया जा रहा है. खासकर लौंग के तेल को सिरदर्द, जोड़ों के दर्द, एथलीट फुट और पैरों के दर्द को दूर करने वाला एक अद्भुत तेल माना जाता है. पैरों के दर्द से राहत पाने के लिए लौंग के तेल से पैरों में धीरे-धीरे मालिश करें. बेहतर परिणाम के लिए दिन में दो से तीन बार इस तेल से अपने पैरों की मालिश करें.
5- सरसों के बीज सरसों के बीजों का इस्तेमाल आमतौर पर शरीर से विषाक्त पानी निकालने, रक्त परिसंचरण में सुधार करने के लिए किया जाता है. इसके अलावा सरसों के बीज पैरों के दर्द और उसके सूजन को दूर करने के भी काम आते हैं. पैरों के दर्द से राहत पाने के लिए सरसों के कुछ बीजों को लेकर पीस लें और फिर इन्हें एक बाल्टी गर्म पानी में मिलाएं, फिर अपने पैरों को इस पानी में 10 से 15 मिनट के लिए डालकर रखें.

किडनी फेल (गुर्दे खराब) की हर्बल औषधि 

प्रोस्टेट ग्रंथि बढ्ने से मूत्र बाधा की हर्बल औषधि 

सिर्फ आपरेशन नहीं ,पथरी की 100% सफल हर्बल औषधि 

आर्थराइटिस(संधिवात)के घरेलू ,आयुर्वेदिक उपचा