3.11.19

खांसी रोगी का आहार ,क्या खाएं क्या न खाएं |


खांसी में क्या खाना चाहिए और क्या नहीं खाना चाहिए इसके बारे में बहुत कम लोग जानते हैं। जो लोग इससे जागरूक नहीं है, वे अक्सर सर्दी-खांसी से परेशान रहते हैं। इसलिए खांसी में अपने खानपान का बेहद ख्याल रखना जरूरी है। खांसी एक बहुत आम समस्या है। परिवार में किसी न किसी को खांसी की समस्या बनी ही रहती है। किसी को मौसम बदलने पर, तो किसी को हमेशा खांसी की समस्या रहती है। लेकिन कुछ चीजें नियमित रूप से खाने से खांसी से तुरंत राहत पाई जा सकती है।
विशेषज्ञों के अनुसार, खांसी सांस की नली के ऊपरी हिस्से में होने वाला संक्रमण होता है, जो लगभग गले के आसपास के हिस्से को प्रभावित करता है। संक्रमण की वजह से ऐसा लगता है, जैसे कि गले में कोई चीज अटक रही हो, या कभी-कभी इरीटेशन भी महसूस होता है। इसे बाहर निकालने के लिए हमारा शरीर कोशिश करता है। इसी को खांसी होना कहते हैं।
खांसी में कई तरह के लक्षण दिखाई देते हैं, जैसे गले में दर्द होना, बार-बार गला साफ करना, आवाज बैठ जाना आदि। बहुत ज्यादा खांसी होने पर सांस फूलने लगती है और अगर ये ज्यादा बढ़ जाएं, तो खांसी के साथ खून भी आने लगता है। कभी-कभी होने वाली खांसी प्राकृतिक है। इससे शरीर में मौजूद विषैले पदार्थ बाहर निकलते हैं।
बच्चों और बड़ों में संक्रमण के कारण तो खांसी होती ही है, लेकिन खाने-पीने की गलत आदतें भी खांसी की मुख्य वजह हैं। खांसी को दवाओं से तो ठीक किया ही जा सकता है, लेकिन अगर आप अपने खान-पान को लेकर थोड़ी सावधानी बरतें, यानि खांसी हो, तो क्या खाएं क्या न खाएं, अगर ये पता हो, तो खांसी जैसी समस्या से आसानी से छुटकारा पाया जा सकता है। आज के इस आर्टिकल में हम आपको बताएंगे, कि खांसी होने पर कौन-कौन से खाद्य पदार्थ खाने चाहिए और कौन से खाद्य पदार्थों से परहेज करना चाहिए।
खांसी अगर एक बार शुरू हो जाए, तो बमुश्किल ठीक होती है। बेशक ही आप दवा क्यों न ले लें, लेकिन जब तक सही खाद्य पदार्थ नहीं खाएंगे, तब तक खांसी में कोई अंतर दिखाई नहीं देगा।
अक्सर लोगों को कहते सुना है, कि खांसी हो तो केला नहीं खाना चाहिए। लेकिन विशेषज्ञों के अनुसार केला आपकी खांसी का बेहतर इलाज कर सकता है। इसमें भरपूर मात्रा में पोटेशियम पाया जाता है और यह शरीर में पानी की कमी को दूर करता है। एक केले में करीब 100 कैलोरी मौजूद होती है, जो हमें ऊर्जा देती है। इतना ही नहीं, केले में पर्याप्त मात्रा में इलेक्ट्रोलाइट पाए जाते हैं, जो शरीर का इम्यूनिटी लेवल बढ़ाने में मदद करते हैं। इसलिए कोई कुछ भी कहे, खांसी में केले का सेवन तो करना ही चाहिए।
खांसी में जरूर खाएं दालचीनी
खांसी में दालचीनी का सेवन बहुत फायदेमंद होता है। अगर शहद के साथ पिसी हुई दालचीनी खाएंगे, तो खांसी में बहुत आराम मिलेगा। अगर आप ये नहीं कर सकते, तो पहले शहद और दालचीनी को मिलाकर इनका पाउडर बना लें और फिर पानी में मिलाकर पी लें। इससे भी खांसी बहुत जल्दी सही हो जाती है।
खांसी में खा सकते हैं दही
खांसी हो जाए, तो कई लोग दही खाने से बचते हैं। जबकि ऐसा करना गलत है। विशेषज्ञों के अनुसार, सीजनल खांसी में दही का सेवन करना अच्छा होता है, क्योंकि इसमें मौजूद बैक्टीरिया खाना पचाने में आपकी मदद करते हैं। लेकिन जिन लोगों को हमेशा ही खांसी बनी रहती है, उन्हें दही नहीं खाना चाहिए। हां, रात में भी दही न खाएं, क्योंकि इससे आपको कफ की समस्या हो सकती है।
खांसी में जरूर लें विटामिन सी
विटामिन सी से भरपूर फल और सब्जियां शरीर में इम्यूनिटी लेवल को बढ़ाती हैं। इससे हड्डियों और मांसपेशियों में भी मजबूती आती है। विटामिन सी आपको टमाटर, संतरा, पपीता, अमरूद आदि से मिल जाता है।
खांसी में खाना चाहिए कच्चा लहसुन
लहसुन खांसी से बहुत बचाव करता है। पूरी तरह से खांसी को रोकने के लिए लहसुन जरूर खाएं। लहसुन में प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ाने वाले गुण होते हैं। यदि आप कर सकते हैं, तो नियमित रूप से कच्चे लहसुन का सेवन करें। आप चाहें, तो लहसुन के सप्लीमेंट भी ले सकते हैं। खांसी के लिए लहसुन सबसे अच्छा घरेलू उपाय है।
खांसी में चबाकर खाएं तुलसी
खांसी और सीने में जलन से तुंरत राहत पाने के लिए तुलसी बहुत फायदेमंद है। इसके लिए तुलसी के कुछ पत्तों का पेस्ट बनाकर इसे गर्म करें। अब इस पेस्ट को अपनी छाती पर लगाएं। खांसी से बहुत आराम मिलेगा। आप चाहें तो इसके पत्तों को चबाकर खा भी सकते हैं।
खांसी में फायदेमंद लौंग
लौंग बेशक दिखने में बहुत छोटी होती है, लेकिन खांसी जैसी समस्या में भी बहुत काम आती है। लौंग का उपयोग सदियों से जड़ी-बूटी के रूप में किया जाता रहा है। इसमें एंटीफंगल, एंटीबैक्टीरियल, एंटीइंफ्लेमेट्री और एंटीसेप्टिक गुण होते हैं, जो खांसी से राहत दिलाने में मदद करते हैं। खांसी होने पर दो से तीन लौंग मुंह में रखें और चबाएं। इसका रस गले तक जाने दें। इससे गले में संक्रमण के साथ खांसी भी कम हो जाएगी
खांसी में खाएं शहद
चाय या गर्म नींबू पानी में शहद मिलाकर पीने से खांसी में काफी हद तक आराम मिलता है। शहद गले में खराश को शांत करने का अच्छा तरीका है। शहद में रोगाणुरोधी गुण होते हैं, जो गले में जलन और सूजन की समस्या से निजात दिलाने में मदद करते हैं। से छुटकारा पाने के लिए रोज एक से दो चम्मच शहद जरूर खाएं, इससे बहुत आराम मिलेगा और नींद भी अच्छी आएगी।
खांसी ठीक करे काली मिर्च
काली मिर्च किसी भी रेसिपी को तैयार करते समय सबसे आम और लोकप्रिय मसाला है। यह खांसी से राहत पाने का प्राकृतिक उपचार भी है। इसे आप शहद या चीनी जैसे स्वीटनर के साथ ले सकते हैं। इसके अलावा इसे लेने का एक अन्य तरीका भी है। पहले दो कप पानी लें और इसमें पिसी हुई काली मिर्च डालें। तब तक उबालें, जब तक यह उबल कर आधा न हो जाए। इसे ठंडा होने दें और रात को सोने से पहले पी लें। सुबह तक आपको खांसी में एक महत्वपूर्ण सुधार दिखाई देगा।
खांसी होने पर खाएं गुड़
अगर किसी को भी ज्यादा दिनों तक खांसी चल रही है, तो गुड़ खाना बहुत फायदेमंद है। खाने में भी चीनी के बजाए गुड़ का सेवन करें। इसके लिए गुड़ को अदरक के साथ गर्म करके खाने से गले की खराश और जलन में राहत मिलती है।
प्याज में हैं खांसी रोकने के गुण
प्याज में भी खांसी से राहत देने वाले गुण होते हैं। प्याज में नेचुरल एंटीबायोटिक और एक्सपेक्टोरेंट गुण होते हैं, जो फेफड़ों में जमे बलगम को बाहर निकालते हैं। यह सूखी और गीली खांसी में बेहद फायदेमंद है। आप चाहें, तो ताजा प्याज की स्लाइस काटकर खा सकते हैं या फिर एक छोटी प्याज को टुकड़ों में काटकर पीस लें और इसका रस निकालकर इसमें बराबर मात्रा में शहद मिलाएं। इस पेस्ट को रोजाना दिन में दो बार पीने से खांसी गायब हो जाएगी।
खांसी से छुटकारा दिलाए हल्दी
हल्दी प्रभावी रूप से खांसी से छुटकारा दिलाती है। हल्दी में प्रकिर्तिक चिकित्सा गुण होते हैं, जो खांसी से राहत दिलाने के लिए बहुत अच्छे हैं। एक चुटकी हल्दी में एक चम्मच शहद मिलाएं। इस पेस्ट को रोजाना दिन में दो बार लें। खांसी नियंत्रण में आ जाएगी।
खांसी होने पर खाएं अजवाइन
अजवाइन खांसी का अच्छा प्राकृतिक उपचार है। यह सूखी और गीली खांसी से राहत देने में बहुत उपयोगी है। थोड़े से पानी में अजवाइन को उबालकर ठंडा कर लें। इसका पानी पीएं और अजवाइन को चबा लें। खांसी से बहुत राहत मिलेगी।
खांसी में पीएं अदरक की चाय
खांसी होने पर अदरक की चाय पीना बहुत अच्छा होता है। इससे गले में कफ से आराम मिलता है और रोग प्रतिरोधक क्षमता भी मजबूत होती है, जिससे संक्रमण से लड़ने की क्षमता प्रदान होती है। इसके अलावा अदरक में एंटीबैक्टीरियल गुण होते हैं, जो श्वसन प्रणाली को संक्रमित करने वाले रोगाणुओं का नाश करने में बहुत मददगार होते हैं।
खांसी में खाना चाहिए अनानास
मेलीन, अनानास में स्वाभाविक रूप से पाए जाने वाले एंजाइमों का मिश्रण, जो खांसी और बलगम को दबाने में मदद कर सकता है। यदि आप खासी से जल्‍दी राहत पाना चाहते हैं तो अनानास खा सकते हैं।
खांसी में दूध नहीं पीना चाहिए
खांसी में दूध पीने से बचें, वो ही अच्छा है। क्योंकि दूध बलगम को बढ़ा सकता है। कोई भी डेयरी उत्पाद या दूध फेफड़े और गले सहित श्वसन पथ में बलगम का उत्पादन करता है। इसलिए खासी होने पर अपने आहार में दूध को शामिल नहीं करना चाहिए।
खांसी होने पर खट्टे फल न खाएं
खट्टे फल जैसे संतरा, नींबू आदि अगर आपको बेहद पसंद हैं, तो खांसी होने पर इनसे परहेज करें। क्योंकि इन फलों में साइट्रिक एसिड होता है, जो गले में जलन पैदा कर खांसी को और तेज करता है। इनकी बजाय आप उन फलों का सेवन करें, जिनमें पानी की मात्रा ज्यादा होती है, जैसे नाशपति, तरबूज, अनानास, आडू आदि खाएं।
खांसी में कभी न पीएं जूस
स्वास्थ्य विशेषज्ञों के अनुसार खांसी होने पर भूल कर भी डिब्बाबंद जूस न पीएं। इनमें हाई शुगर इंग्रीडिएंट्स होते हैं, जो बीमारी से निपटने के लिए सफेद रक्त कोशिकाओं की क्षमता को और कम कर देते हैं। जूस में मौजूद एसिड खांसी में आपके गले को और इरीटेट कर देता है।
खांसी में न खाएं नॉनवेज –
अगर आपको कफ या खांसी की समस्या बढ़ गई है, तो नॉनवेज बिल्कुल न खाएं। नॉनवेज से संक्रमण फैलने का खतरा रहता है। अगर लगातार खांसी हो रही है, तो जब तक यह ठीक न हो जाए, नॉनवेज से दूरी बनाए रखें।

पित्त पथरी (gallstone) के घरेलू ,आयुर्वेदिक उपचार 

किडनी निष्क्रियता की हर्बल औषधि 

प्रोस्टेट ग्रंथि बढ्ने से मूत्र बाधा की हर्बल औषधि 

सिर्फ आपरेशन नहीं ,पथरी की 100% सफल हर्बल औषधि



कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें